प्राचीन धार्मिक महत्व के कुएं पर एक होटल द्वारा अरसे से कब्जा

0
42

बांसी। बांसी तहसील मुख्यालय पर प्रशासन पूरी तरह कुंभकरण की नींद में है। जिसके चलते अवैध कब्जा करने वालों का मनोबल पूरी तरह बढ़ गया है। आलम यह है कि प्राचीन, ऐतिहासिक धरोहर कुआं पर भी लोग काबिज होते चले जा रहे हैं। और प्रशासन मूकदर्शक की भूमिका में है।

बांसी नगर क्षेत्र में बाबा टेकधर नाथ मंदिर का बहुत ही पुराना महत्व है। मंदिर से न केवल आसपास के लोगों बल्कि दूरदराज के लोगों की भी आस्था जुड़ी हुई है। मंदिर पर प्रतिदिन भारी संख्या में श्रद्धालु का तांता लगा रहता है। राजतंत्र के समय से ही इस ऐतिहासिक मंदिर के बाहर एक विशाल कुआं मौजूद है। जिसकी अपनी प्राचीन विशेषता व महत्ता है। पर स्थानीय प्रशासन की घोर लापरवाही के चलते उस ऐतिहासिक और प्राचीन धार्मिक महत्व के कुएं पर एक होटल द्वारा अरसे से कब्जा कर लिया गया है। कब्जे का आलम यह है कि उसी ऐतिहासिक कुए पर होटल की भठ्ठी भी बना दी गई है और सारा कार्य धार्मिक महत्व के कुएं के ऊपर से ही किया जा रहा है। पूरे कुएं को होटल मालिक ने अपने कब्जे में कर लिया है। लोगों का मानना है कि हिंदू धर्म में कुए का एक प्राचीन और अलग ही महत्व होता है।

कुएं न केवल हमारी धरोहर हैं ,बल्कि हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार पूजनीय भी हैं। इस अवैध कब्जे को लेकर स्थानीय प्रशासन जरा भी गंभीर नहीं है जिससे लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हैं। नगर के तमाम प्रबुद्ध जनों का मानना है कि नगर पालिका प्रशासन द्वारा इस ऐतिहासिक, प्राचीन कुएं के चारों तरफ रेलिंग लगवाकर उसका सुंदरीकरण करा दिया जाए तो मंदिर के ठीक सामने स्थिति इस कुएं का सौंदर्य बढ़ सकता है और प्राचीन धरोहर को बचाया जा सकता है।

” प्राचीन ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के कुएं पर अवैध कब्जा करना दंडनीय अपराध है। शीघ्र ही इस मामले में आवश्यक कार्रवाई की जाएगी और कुएं से अवैध कब्जा हटवाया जाएगा”— प्रबुद्ध सिंह एसडीएम बांसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here