वृद्ध के घर पर ताला लगाकर गांव के कुछ लोगो ने किया कब्जा

0
76

रविंद्र श्रीवास्तव बांसी

थाना कोतवाली बांसी के खरचोला नानकार गांव निवासी एक असहाय वृद्ध ने पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर को पत्र भेजकर अपने गांव के ही कुछ लोगों पर अपने घर का ताला तोड़कर घर पर कब्जा करने की शिकायत की है।
उक्त गांव के सुखई पुत्र बुनेले ने पुलिस अधीक्षक को भेजे अपने पत्र में कहा है कि उसके गांव की आराजी बटवाराशुदा है। गांव के ही राजेश राम नारायण विशेश्वर पुत्र गढ़ राम नवल के नाम से आबादी डीह में 2 बिस्वा 7 धुर जमीन है। जिसमें गाटा संख्या 1054/99 में खंडहर मकान स्थित था जिसके कारण वह अपने जीवन यापन के लिए 23 मई 1972 को राजित राम नारायण तथा विश्वेश्वर ने वाजिब कीमत देकर सुखई के नाम पंजीकृत रजिस्ट्री बैनामा करके उसको कब्जा दखल दे दिया। कब्जा दखल पाने के बाद सुखाई एक खंडार के मकान में एक कमरा ईट की दीवार खड़ा करके ऊपर से सीमेंट का सर रखकर गुजर बसर कर रहा था बाकी छप्पर का मकान अभी पड़ा हुआ है। सुखाई ने कहा है कि वह दमा खांसी से परेशान है इसलिए उसने अपने घर में ताला लगा कर बांसी के निकट खेछुआगढ़ में रहकर अपना दवा इलाज करा रहा था इसी बीच में उसके घर में लगा हुआ ताला तोड़कर घर में रखा सारा सामान लूटकर घर को गिराकर पस्त करने वाले गांव के ही सुमिरता पत्नी राम पाल हरिश्चंद्र पुत्र जोखन मेवाती पत्नी हरिश्चंद्र राम केसर पुत्र बली करण रमेश उर्फ चिंकू पुत्र जोखन आदि लोग कहते हैं कि तुम्हारा घर हम ने ही लूटवाकर पस्त कराया है क्योंकि मैं होमगार्ड हूं। तथा पुलिस के डायल 100 की गाड़ी का ड्राइवर हूं। जिस से बांसी कोतवाली पुलिस भी मेरा कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी। वृद्ध लाचार बीमार सुखई का कहना है कि उसने इस मामले को लेकर बांसी कोतवाली ने गुहार लगाई तहसील दिवस में भी प्रार्थना पत्र दिया परंतु कहीं से भी कोई सुनवाई नहीं हुई जिससे न्याय की आस लेकर उसने पुलिस कप्तान से गुहार लगाई है।
इस संबंध में बांसी कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक शैलेश कुमार सिंह का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है अगर उनके संज्ञान में आया तो वे सख्त से सख्त कार्रवाई करेंगे तथा गरीब वृद्ध को न्याय दिलाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here