प्रेम में धोखा खाने के बाद शिक्षिका ने दी थी जान, प्रेमी शिक्षक गिरफ्तार

हमेशा अपडेट रहने के लिए आप हमारे ऐप को डाउनलोड कीजिए..... यहां क्लिक कीजिए

गोरखपुर, जेएनएन। सिद्धार्थनगर में अपर पुलिस अधीक्षक मायाराम वर्मा ने शिक्षिका अंजली यादव (25) की संदिग्ध मौत के मामले का पर्दाफाश का दावा किया। पुलिस ने मित्र शिक्षक को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपित का नाम देवरिया के थाना कोतवाली सदर के ग्राम चकरवाधुस पनसरही निवासी राजेश कुमार यादव है।

एएसपी ने बताया कि अंजली यादव निवासी ग्राम हुसेपुरा सुरई थाना कठौद जालौन की तैनाती प्राथमिक विद्यालय गौहनिया में शिक्षक पद पर थी। 21 मई को अज्ञात कारणवश कमरे में बंद कर गैस लीक करके आत्महत्या कर लिया था। आत्महत्या करने के पहले उसने रस्सी से बांध कर आग लगा ली थी। पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़ा था। विवेचना में सामने आया कि आरोपित राजेश कुमार यादव ने मित्रता के दौरान विवाह करने की इच्‍छा जताई और बाद में विवाहित बताते हुए इन्कार कर दिया था।

पंचनामा, पोस्टमार्टम व एफआइआर से इतर पुलिसिया पटकथा

अंजली यादव हत्याकांड में पुलिसिया पटकथा तैयार की है। घटनाक्रम में लोगों के बयान पल-पल बदल रहे हैं। संदिग्ध मौत को पहले ही दिन से पुलिस आत्महत्या मान बैठी है, जो अभी तक लोगों के गले नहीं उतर रहा। परिस्थितिजन्य साक्ष्यों को भी नहीं माना गया। पुलिस के पंचनामा व पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जमीन-आसमान का अंतर सामने आया है। तीन लाइन के एफआइआर के आधार पर पुलिस ने पूरी कहानी तैयार कर दी है।

पुलिसिया पटकथा में झोल है। पुलिस पंचनामा में कुछ और लिखती है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट अलग बात सामने आ रही है। जो पूरी कहानी पर संदेह पैदा कर रहा है। पुलिस ने पंचनामा में दिखाया कि मौके पर मिले शव के गले में लोहे की जंजीर व पैर में तार बंधा हुआ था। अब घटना में पुलिस रस्सी का प्रयोग करना बता रही है। गैस सिलेंडर से आग लगना बताया था। वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आया कि शव से मिट्टी के तेल की बू आ रही थी। वह 80 से 90 फीसद जली थी। पेट में आधा पचा हुआ भोजन मिला था। सवाल यह उठता है कि अगर कोई घोर अवसाद में है तो वह भोजन कैसे करेगा? एएसपी मायाराम वर्मा ने बताया कि पुलिस ने मामले का पर्दाफाश कर दिया है। आरोपित मित्र शिक्षक ने विवाह का आश्वासन देने के बाद इन्कार कर दिया था। इससे वह निराश होकर अवसाद में आ गई थी। अंत में आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया।

यह है तीन लाइन की एफआइआर

22 मई की शाम सवा छह बजे मोहाना पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज किया। जालौन के थाना कुठौट के ग्राम हुसेपुरा सुरई निवासी अजय कुमार यादव से तीन लाइन की तहरीर लिया था। उसमें पता के साथ लिखा गया कि विवेचना के आधार पर कोई भी दोषी हो उसे सजा दी जाए। वहीं पिता ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने मुझे गुमराह करते हुए आखिरी लाइन, मेरी लड़की की अज्ञात कारणों से जलकर मृत्यु हो गई है, को लिखवाया लिया था।

घटना स्थल पर पहुंची राज्य महिला आयोग की टीम

उधर, राज्य महिला आयोग ने शिक्षका अंजली यादव हत्याकांड का संज्ञान ले लिया है। आयोग की टीम मोहाना बाजार स्थित घटनास्थल का निरीक्षण किया। पूरे मामले को संदिग्ध मानते हुए उच्चस्तरीय जांच कराने की अनुशंसा की। पहले दिन से ही प्रकरण को आत्महत्या मानने पर पुलिस विभाग को आड़े हाथों लिया। परिजनों से वार्ता किया, उन्हें न्याय दिलाने का आश्वासन दिया। राज्य महिला आयोग की सदस्य इंद्रवास सिंह ने टीम के साथ मकान मालिक के परिजनों से मामले की जानकारी लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *